श्री खाटू श्याम कथा

महाबली भीम के पुत्र घटोत्कच के विषय में हम सब जानते हैं । वीर घटोत्कच का विवाह दैत्यराज मुर की पुत्री मौरवी से हुआ । मौरवी को कामकंटका व आहिल्यावती के नामों से भी जाना जाता है । वीर घटोत्कच तथा महारानी मौरवी को पुत्र रत्न की प्राप्ति हुई । बालक के बाल बब्बर शेर की तरह होने के कारण इनका नाम बर्बरीक रखा गया । इन्हीं वीर बर्बरीक को आज दुनिया ' खाटू श्याम ' के नाम से जानती है ।

वीर बर्बरीक को बचपन में भगवान श्री कृष्ण द्वारा परोपकार करने एवं निर्बल का साथ देने की शिक्षा दी गयी । इन्होनें अपने पराक्रम से ऐसे अनेक असुरों का वध किया जो निर्बल ऋषि - मुनियों को हवन - यज्ञ आदि धार्मिक कार्य करने से रोकते थे । विजय नामक ब्राह्मण का शिष्य बनकर उनके यज्ञ को राक्षसों से बचाकर, उनका यज्ञ सम्पूर्ण करवाने पर भगवान शिव ने सम्मुख प्रकट होकर इन्हें तीन बाण प्रदान किये, जिनसे समस्त लोगों में विजय प्राप्त की जा सकती है।

जब महाभारत के युद्ध की घोषणा हुई तो वीर बर्बरीक ने भी अपनी माता के सम्मुख युद्ध में भाग लेने की इच्छा प्रकट की। माता ने इन्हें युद्ध में भाग लेने की आज्ञा इस वचन के साथ दी कि तुम युद्ध में हारने वाले पक्ष का साथ निभाओगे।

जब भगवान श्री कृष्ण जी को वीर बर्बरीक की इस शपथ का पता चला तो उन्होंने वीर बर्बरीक की परीक्षा लेने की सोची । जब वीर बर्बरीक युद्ध में भाग लेने चले तब भगवान श्री कृष्ण जी ने राह में इनसे भेंट की तथा वीर बर्बरीक से उनके तीन बाणों की विशेषता के बारे में पूछा । वीर बर्बरीक ने बताया कि पहला बाण समस्त शत्रुसेना को चिन्हित करता है, दूसरा तीर शत्रुसेना को नष्ट कर देता है तथा तीसरे बाण की आवश्कता आज तक नहीं हुई । भगवान श्री कृष्ण ने एक पेड़ की तरफ इशारा करते हुए कहा कि तुम इस स्थान को युद्धभूमि मानो तथा इस पेड़ के पत्तों को शत्रुसेना समझ कर अपनी युद्धकला को दिखाओ ।

इस बीच श्री कृष्ण जी ने वीर बर्बरीक की नजर बचाकर एक पत्ता पेड़ से तोड़कर अपने पैर के नीचे दबा लिया । वीर बर्बरीक द्वारा युद्धकला दिखाने के बाद श्री कृष्ण जी ने पूछा कि क्या तुम्हारे बाण ने सभी पत्तों को भेद दिया है ? वीर बर्बरीक के हाँ कहने पर श्री कृष्ण ने अपने पैर के नीचे दबे पत्ते को निकाला, उनकी हैरानी का कोई ठिकाना नहीं रहा जब उन्हें वह पत्ता भी बिंधा हुआ मिला ।

भगवान श्री कृष्ण जी को विश्वास हो गया कि वीर बर्बरीक के रहते युद्ध में पाण्डवों की विजय संभव नहीं थी । इसलिये वीर बर्बरीक से अपना शीश दान स्वरूप देने को कहा । वीर बर्बरीक अपना शीश सहर्ष देने को तैयार हो गये । वीर बर्बरीक ने भगवान श्री कृष्ण के सम्मुख महाभारत का युद्ध देखने की इच्छा प्रकट की । इस पर भगवान श्री कृष्ण ने प्रसन्न होकर दो वरदान दिये, पहला उनका शीश शरीर से अलग होकर भी हमेशा जीवित रहेगा व महाभारत युद्ध का साक्षी बनेगा और दूसरा यह कि कलियुग में तुम्हें (वीर बर्बरीक को) मेरे प्रिय नाम श्री श्याम के नाम से पूजा जायेगा । भगवान श्री कृष्ण जी ने वीर बर्बरीक के शीश को एक ऊँचे स्थान पर लाकर रख दिया । जहाँ से पूरी युद्ध भूमि दिखाई देती थी ।

महाभारत युद्ध की समाप्ति पर युधिष्ठर ने ब्रह्मसरोवर पर विजय स्तंभ की स्थापना की । पाण्डवों में इस बात पर बहस होने लगी कि महाभारत का युद्ध किस के कारण जीता गया ? जब पाण्डव आपस में बहस करने लगे तो उन्होंने श्री कृष्ण जी से इस संबंध में फैसला करवाने का निर्णय किया, भगवान श्री कृष्ण जी ने पाण्डवों से कहा कि इस बात का फैसला वीर बर्बरीक कर सकते हैं क्योंकि उन्होंने पूरा युद्ध एक साक्षी के रूप में देखा है ।

इस बात का फैसला करवाने हेतु श्री कृष्ण जी की आज्ञा पाकर पाण्डवों ने वीर बर्बरीक के शीश को लाकर विजय सतंभ (द्रोपदी कूप ब्रह्मसरोवर, कुरुक्षेत्र) पर स्थापित किया । पाण्डवों की बात सुनकर वीर बर्बरीक ने उत्तर दिया कि मुझे तो पूरी युद्ध भूमि में श्री कृष्ण का सुदर्शन चक्र तथा द्रोपदी का खप्पर दिकाई दिया अर्थात सभी वीर श्री कृष्ण के सुदर्शन चक्र से मारे गये तथा द्रोपदी (काली रूप में) ने खप्पर भर कर उन वीरों का रक्त पिया ।

महाभारत की समाप्ति पर यह शीश धरती में समा गया । भगवान श्री कृष्ण के वरदान अनुसार कलियुग में राजस्थान के खाटू नामक स्थान पर राजा को सपने में श्री कृष्ण जी ने दर्शन दिये तथा पावन शीश को निकाल कर उसे खाटू में प्रतिष्ठित करने की आज्ञा दी । आज वीर बर्बरीक के उसी पावन शीश की श्री खाटू श्याम के नाम से पूजा होती है ।

वह स्थान जहाँ श्री कृष्ण जी ने वीर बर्बरीक की परीक्षा ली थी, वर्तमान में हिसार के तलवंडी राणा के समीप बीड़ बर्बरान के नाम से प्रसिद्ध है । उस पेड़ जिसके पत्ते वीर बर्बरीक ने भेदे थे, आज भी बिंधे हुए होते हैं । वह स्थान जहाँ वीर बर्बरीक का शीश श्री कृष्ण द्वारा ऊँचे स्थान पर रखा गया था, वर्तमान में कैथल जिले के गाँव सिसला सिसमौर में है तथा वीर बर्बरीक की पूजा सिसला गॉंव में नगरखेड़ा बबरूभान के नाम से होती है, यह स्थान आज भी आस - पास के स्थान में बहुत ऊँचाई पर है ।

यह विजय स्तंभ जहाँ पाण्डवों द्वारा वीर बर्बरीक के शीश की स्थापना की गई थी वर्तमान में द्रोपदी कूप, कुरुक्षेत्र ब्रह्मसरोवर पर स्थित है । उस युग के वीर बर्बरीक आज कलियुग के श्याम है । इनके बारे में प्रसिद्ध है कि आज भी वे माता को दिये वचन के अनुसार इस संसार में हारने वाले इंसान का साथ देते हैं । इनका दरबार आज भी हारे का सहारा है ।

हारे का सहारा, बाबा श्याम हमारा

Barbareek Katha

We all know about The mighty Bhima's son Ghatotkach. Heroic Ghatotkach was married to Murvi - the daughter of Datyraj Moore. Maurvi is also known by the names of Kamkantka and Ahilyawati . Heroic Ghatotkach and Queen Murvi received their gem like son . The baby was named Barbareek because of resemblence of his hairs like a Babbar Sher (A kind of Lion in India) . This heroic Barbareek is known around the world today as 'Khatu Shyam'.

In his childhood, Heroic Berbrik was educated by Lord Krishna to support the weak and do charity . With his might he killed many demons who used to prevent weak rishi - munis in performing the ritual - religious veneration etc. He bacame the Student of a Brahman named Vijay. He proetected the Yagya of this Brahmans from the demons and facilitated the Yagya to be completed. Thus Lord Shiva revealed himself to Barbareeka and gifted him three arrows, that could win all the three worlds.

When declaration of Mahabharata war was done Barbareek asked his mother to attend the war. Mother had commanded him to participate in the war with the promise that you will be performing along side the loser in the battle.

When Lord Krishna came to know about the oath of Barbareek he decided to test it. When heroic Barbareek proceeded for participation in the war Lord Krishna met him in the path asked about the features of three arrows. Veer Barbareek said the first arrow marks all enemy, second destroys all the enemies and there has not been a need for the third arrow until today . Pointing to a tree, Lord Krishna said, "Suppose this space as battlefield and the tree leaves as the enemies and use it to show your combat skills".

Meanwhile Shri Krishna, unknowingly to Barbareek plucked a leaf from the tree and put it under His foot. After seeing the warfare skills of Barbareek Shri Krishna asked if all the leaves of the tree have been peirced by the arrow? After getting an affirmative answer from Barbareek Shri Krishna lifted his foot from the leaf and got surprised to see the even that leave was peierced off.

Lord Krishna convinced that the victory of the Pandavas in the war was not possible till Barbareek is there. So he asked Barbareek to donate his head . Heroic Barbareek gladly agreed to donate his head . Barbareek expressed his wish to see the war of the Mahabharata in front of Lord Krishna . Lord Krishna gave him two boon. As per first boon his head will live apart from his body and will witness the Mahabharat war and as per the second one he will be worshipped by the name of my 'Shree Shyam' in the Kalyug time . Lord Krishna put the head of Barbareek on a high place from where one could see the whole battle field.

At the end of the Mahabharata war Yudhishtir set a victory column at Bhramasarovar. Pandavas began to argue about who made the Mahabharata war won. They went to Shri Krishna to decide this. Lord Krishna said that Barbareek can decide this as he has seen the whole war as a witness.

To decide this, as commanded by Shri Krishna, the Pandavas brought the head of Barbareek and installed it on the Victory Column (at Draupadi Koop, Bhramasarovar, Kurukshetra). Barbareek replied that I could only see the Sudarshan Chakra of Lord Krishna and Khappar of Draupadi that is all got killed by the Sudarshan Chakra of Lord Krishna and Draupadi ( in form of Devi Kali ) drinking the blood of the martyrs .

At the end of the Mahabharata, this head went into the earth . According to the grace of Lord Krishna, in Kaliyuga Shri Krishna Ji appeared in the dream of the king of Khatu place in Rajasthan and asked him to dig up the holy head and install it in Khatu. Today the same holy head of heroid Barbareek is worshipped as Shree Khatu Shyam.

The place where Shri Krishna tested Barbareek is located at Beed Barbaran near Talwandi Rana in Hisar . The leaves of the Tree there are still pierced. The place where Head of heroic Barbareek was placed on high by Lord Krishna, is currently at Sisla Sismur in the village of Kaithal district. Barbareek is still worshipped there in the name of Babrubhan Nagarkhedh. The location around this place is still very high.

The Victory Column which was founded by the Pandavas is located Draupadi Koop, Bhramasarovar, Kurukshetra. Barbareek of that age is Shyam in Kalyug . About them it is famous even today that according to the word given to the mother he would side with the person who lost in this world . His court is place to give support to people who've lost something in this world.

Haare Ka Sahaara, Baba Shyam Humaara