अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

ट्रस्ट का मुख्य उद्देश्य क्या है ?

ट्रस्ट का मुख्य उद्देश्य श्री खाटू श्याम जी का प्रचार करना तथा समाज को बेहतर बनाने के लिए प्रयासरत रहना ।

बस यात्रा का किराया क्या नियत है ?

यह बस यात्रा ' ना लाभ ना हानि ' आधार पर आयोजित की जाती है इसलिए किराया उसी हिसाब से घटाया - बढ़ाया जा सकता है ।

बस यात्रा का मार्ग क्या रहता है ?

यह बस यात्रा कुरुक्षेत्र से आरम्भ होकर हिसार होते हुए झुंझनू ( राजस्थान ) से श्री खाटू श्याम जी के धाम पहुँचती है तथा अगले दिन श्री सालासर धाम होते हुए वापिस कुरुक्षेत्र पहुँचती है ।

अपने घर पर कीर्तन करवाने में कितना खर्च होता है ?

कीर्तन करवाने वाले को केवल संगत के बैठने तथा प्रसाद की व्यवस्था का खर्च पड़ता है बाकी सभी खर्च ट्रस्ट द्वारा वहन किये जाते हैं

ट्रस्ट का सह - सदस्य बनने के लिए क्या करना होगा ?

ट्रस्ट के कार्यालय से सदस्यता फार्म लेकर निर्धारित सहायता राशि के साथ आप उसे जमा करवा सकते हैं ।

भविष्य में ट्रस्ट की क्या विशेष योजना है ?

ट्रस्ट श्री खाटू श्याम जी के भव्य मन्दिर निर्माण के लिए सरकार से या किसी दानी सज्जन से जगह का इच्छुक है, उसके बाद उस पर मन्दिर निर्माण का कार्य शुरू किया जाएगा ।

Frequently Asked Questions

What is the main objective of the trust ?

The main objective of the trust is to preach Shri Khatu Shyam ji and strive to improve the society.

What is the bus fare?

This Bus Yatra is held on ' no profit no loss ' basis therefore bus fare can be reduced or enhanced accordingly.

What is the bus route ?

This Bus Yatra starts from Kurukshetra and then via Hissar and Jhunjnu (Rajasthan) it reaches Shri Khatu Shyam ji Dham and the next day, via Shri Salasar Dham it arrives Back to Kurukshetra.

How much is the cost to conduct Kirtan at our home ?

The person who conducts the kirtan has to make arrangement only for the seating of accompaniment and prasad. The Rest of the expenses are borne by the Trust.

What to do to become a Co-member of trust ?

You can take Membership Form from Trust Office and can submit it with Aid Money in the Trust Office.

What are the special plans of the Trust in future ?

Trust is willing to get a place from government or from a charitable gentleman to build a grand temple of Shri Khatu Shyam ji. After that the construction on the temple will begin.